Smart Tenali Raman proves a Scholar Wrong by 1 Simple Example
Tenali Raman in Cinema

Smart Tenali Raman proves a Scholar Wrong by 1 Simple Example

रमन मायाकी मान्यता को झुठा साबित करता है।

Smart Tenali Raman को अब फिलसुफीकी चुनौती आयी । राजाके दरबार मे बहस चल रही थी कि क्या यह सब माया है । दिनचर्या के लिए विभिन्न हिस्सों के प्रख्यात विद्वान राजा के दरबार में इकट्ठे हुए थे। रमन सीधे दरबार में गया और दर्शकोके बीच में बैठ गया। एक ‘मोह माया’ के बारेमे चर्चा और बहस थी ।

एक विद्वान ने कहा, हम सभी देखते और अनुभव करते हैं वह सारा भ्रम मात्र हैं । यह तो केवल हमारी खुशी, कल्याण, विचार है जो हमें खुश या दुखी करते है। राजाने विद्वान का सत्कार किया।

Smart Tenali Raman और लोगोंको दार्शनिक विद्वान मायाके बारेमे समजाता है।

दरबार उनके तर्कों से सहमत था। ‘क्या दार्शनिक है । ‘उन्होंने विद्वान का सत्कार किया।सब लोग इकट्ठे हुए । राजा ने उसकी बातको चेलेंज करनेवालों के लिए चारों ओर देखा। लेकिन कोई आगे नहीं आया। राजा को लगा, कोइ नही मिलेगा । वह उदास हो गया, “क्या मेरे दरबार मे ऐसा कोइ नही जो ईसका जवाब दे या आगे सवाल करें ?” वह सोचमे डुब गया।

अचानक उसे एक आवाज सुनाई दी । वह रमन था जो विद्वानको को चुनौती दे रहा था । सभा मे गुसुर पुसुर होने लगी। यह कौन अनजान आ गया ?

Smart Tenali Raman आगे आता है।

रमन आगे आके बोला – “प्रिय दोस्तों, विद्वान ने कहा यहाँ यह कहा कि जो हमें खुशी देता है और दुख देता है हमारा मन है ,ईसीलिए यह सब माया है।

वर्तमान में यह दोपहर है और प्यारे राजा को बिनती है सबको खाना खिलाएँ । हमें सुपाच्य भोजन दें। हम सब खाना खा सकते हैं। पर विद्वान को इसका सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि वे मानते है कि यह माया है। उसे लगता है कि वह खा रहे है वह मनका खेल है।क्या यह विचार सिर्फ उनकी भूख को संतुष्ट करेगा? ” रमन ने चुनौती दी।  

रमनके तर्कों ने विद्वान को हराया और ठीक कर दिया। राजा ने रमन को उनके पक्ष में बधाई दी। राजाने रमन को सोने के सिक्कों से पुरस्कार दिया।

Smart Tenali Raman के बारेमे कुछ रसिक बातें

उनका जन्म 16 वीं शताब्दी के पहले छमाही के दौरान एक तेलुगु विश्वब्राह्मण परिवार में हुआ था।  आमतौर पर माना जाता है कि उनका जन्म तेनाली में हुआ था, आंध्र प्रदेश का गुंटूर जिला एक नगरपालिका शहर है। तेनाली के पिता गरलापति रामय्या थे, जो तेनाली में रामलिंगेश्वर स्वामी मंदिर के पुजारी थे। उनके पिता की मृत्यु के बाद, तेनाली राम को उनके चाचा ने पाला था।

उन्हें अपनी जाति और गैर धर्मनिरपेक्ष संबद्धता के कारण शिक्षा से वंचित रखे गये। (याद रखें, वह शैव था?) वह जन्म से शैव थे, लेकिन अंत में वैष्णव धर्म में परिवर्तित हो गये और उसने अपना नाम बदलकर रामकृष्ण रख लिया। 

वह विजयनगर में ‘भगवत् मेला’ के प्रसिद्ध मंडली के सदस्य के रूप में पहुंचा। कृष्णदेवराय उनके प्रदर्शन से इतने प्रभावित हुए, कि उन्होंने उन्हें अष्टदिग्गज (वे आठ विद्वान) समूह को पूरा करते हुए दरबार में हास्य कवि का पद दे दिया।

Smart Tenali raman

 यह व्यापक रूप से माना जाता है कि तेनाली राम ने अपनी समयबद्ध बुद्धि और रणनीति से विजयनगर को दिल्ली सल्तनत के हमले से बचा लिया। 

तेनाली राम की तुलना अकबर के दरबार के बीरबल से की जाती है, लेकिन रमन एक प्रतिभाशाली साहित्यकार थे। राजा बीरबल के विपरीत, तेनाली राम वास्तव में अमीर आदमी नहीं थे।

 उनका काव्य (काव्य) पांडुरंग महात्म्य सामूहिक रूप से तेलुगु साहित्य के पाँच महाकविओं का है। अक्किनेनी नागेश्वर राव और शिवाजी गणेशन जैसे दिग्गज अभिनेताओं ने क्रमशः तेलुगु और तमिल फिल्म अनुकूलन में तेनाली की भूमिका निभाई है। तेनाली रामन के बारेमे कहानियाँ और बातें यहां पढें।

LIKE,COMMENT,SHARE

Leave a Reply